ALL News राजनीति Education Public
UPTET 2019: गाजीपुर में यूपीटीईटी परीक्षा में नकल करवाते प्रिंसिपल और उसके चार सहयोगी गिरफ्तार
January 8, 2020 • Dr. Samrat

 गाजीपुर में यूपीटीईटी परीक्षा में नकल करवाते प्रिंसिपल और उसके चार सहयोगी गिरफ्तार
 यूपी के गाजीपुर में टीईटी परीक्षा के दौरान छावनी लाइन स्थित बुद्धम शरणम इंटर कॉलेज में नकल कराने के आरोप में प्रिंसपल सहित पांच लोगों को पकड़ा है। पकड़े गए प्रिंसिपल पारस सिंह पर आरोप है कि वह अभ्‍यर्थियों के पेपर हल करवा रहे थे। वाराणसी से पहुंची एसटीएफ ने कार्रवाई करते हुए सभी चारों लोगों को पकड़कर कोतवाली लाई। गिरफ्तार लोगों में से एक लिपिक भी है।

वहीं सूचना पाकर मौके पर पहुंचे लोगों की भारी भीड़ लगी रही। गाजीपुर जिले में एसटीएफ की इस कार्रवाई से नकल माफ‍िया में हलचल मची हुई है। इससे पूर्व बुधवार की सुबह से ही क्षेत्र में मजिस्‍ट्रेटों के साथ पुलिस टीम की भी मौके पर तैनाती रही और फोटो स्‍टेट, साइबर कैफे, इलेक्‍ट्रानिक्‍स आदि की दुकानें परीक्षा केंद्र से 200 मीटर की दूरी तक बंद रहीं। जबकि पुलिस और प्रशासन के साथ एसटीएफ की टीमें भी दोनों पालियों में नकल रोकने के लिए चक्रमण करती रहीं। 

डीएम के निर्देशानुसार काफी सख्त व्यवस्था की गई है, ताकि परीक्षा की शुचिता बनी रहे। सुबह से ही टीईटी परीक्षा और भारत बंद को लेकर जिला प्रशासन और पुलिस महकमा काफी चौकन्ना नजर आया। खुद पुलिस कप्तान डॉ अरविंद चतुर्वेदी टीईटी परीक्षार्थियों की तलाशी लेते देखे गए। परीक्षा की शुचिता कायम रखने के लिए व्यापक तैयारी की गई है। इसके लिए नौ सेक्टर, पांच जोनल व 48 स्टेटिक मजिस्ट्रेट तैनात रहेंगे। इसके अलावा 96 पर्यवेक्षक बनाए गए हैं, प्रत्येक केंद्र पर दो-दो रहेंगे। इतना ही नहीं 16 सचल दल भी बनाए गए हैं। वहीं केंद्रों पर पर्याप्त संख्या में पुलिसर्किमयों की भी तैनाती देखने को मिली।

पहले भी सुर्खियों में रहा है बुद्धम शरणम कॉलेज

कुछ वर्ष पहले पालिटेक्निक के प्रवेश परीक्षा में इस नकल माफिया के स्‍कूल में पालिटेक्निक के प्रेवश परीक्षा में करीब सात-आठ लड़को को नकल के माध्‍यम से टॉप करा दिया गया था, रिजल्‍ट निकलने के बाद जब इसकी खबर शासन को लगी तो पूरे प्रदेश में हड़कंप मच गया था, शासन ने लखनऊ से जांच टीम भेजकर कालेज की जांच कराई और इस कालेज के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गयाl  जिसमें कालेज के प्रिंसिपल सहित कई लोग जेल भेजे गये थे।