ALL News राजनीति Education Public
टॉपर्स पर रहेगी नजर, 90% से ज्यादा अंक मिलने पर दोबारा चेक होगी कॉपी
March 15, 2020 • Dr. Arshad Samrat

 

यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा की कॉपियों का मूल्यांकन 16 मार्च से होगा। प्रदेशभर के 275 केंद्रों पर 1.47 लाख परीक्षक तीन करोड़ से अधिक कॉपियां जांचेंगे। खास बात यह कि जिन कॉपियों पर 90 प्रतिशत या अधिक अंक मिलेंगे उसे परीक्षकों को अपने उप प्रधान परीक्षक के सामने प्रस्तुत करते हुए उनकी सहमति या असहमति की आख्या लेते हुए मूल्यांकन की पुष्टि करवानी होगी।

बोर्ड की ओर से मूल्यांकन केंद्र प्रभारित को भेजे निर्देश के अनुसार कॉपी जांचने वाले प्रत्येक परीक्षक को अंडरटेकिंग देनी होगी। परीक्षकों को लिखित रूप से देना होगा की-'मेरे द्वारा किए गए मूल्यांकन कार्य में यदि किसी प्रकार की अनियमितता पायी जाती है तो उसके लिए मैं व्यक्तिगत रूप से उत्तरदायी होऊंगा तथा उक्त के क्रम में मेरे विरुद्ध जो भी कार्यवाही की जाएगी, मुझे मान्य होगी।'

15 प्रतिशत उत्तर पुस्तिकाओं का होगा अंकेक्षण
अंकेक्षण का काम एक दिन बाद 17 मार्च से शुरू होगा। प्रत्येक दिन परीक्षकों द्वारा मूल्यांकित उत्तर पुस्तिकाओं में से 15 प्रतिशत रैंडम निकाली गई कॉपियों का अंकेक्षण किया जाएगा।

कॉपी के अंदर पन्ने बदलने की करेंगे स्क्रीनिंग
पूर्व के वर्षों में कुछ केंद्रों पर उत्तर पुस्तिकाओं को बाहर से लिखवाकर परीक्षा समाप्त होने के बाद अंदर के पन्नों को बदलने की शिकायतें भी मिली है। इसलिए परीक्षकों को निर्देशित किया गया है कि मूल्यांकन से पहले कॉपी पर किए गए क्रमांक/परिछिद्रण का अच्छे से परीक्षण कर लें। यदि क्रमांक/परिछिद्रण में किसी प्रकार की भिन्नता पाई जाती है तो ऐसी कॉपियों का गहन मार्जन (स्क्रीनिंग) कराकर इनके परीक्षा केंद्र संख्या तथा प्रभावित अनुक्रमांकों की सूची तैयार कर कॉपियों के बंडल अलग से संबंधित क्षेत्रीय कार्यालयों को परीक्षण के लिए उपलब्ध कराया जाए।

मूल्यांकन के लिए परीक्षकों को निर्देश

-अशुद्ध हल पर शून्य अंक दिया गया
-हाईस्कूल की 50 या इंटर की 45 उत्तरपुस्तिकाएं मूल्यांकन के लिए दी गई
-उत्तरपुस्तिका में हल किए गए प्रत्येक खंड/प्रश्न पर अंक दिए गए
-संपूर्ण प्राप्तांक का योग अंकों एवं शब्दों में मुख्य पृष्ठ पर लिखा गया 
 

4.64 लाख छात्र-छात्राओं ने छोड़ी परीक्षा
यूपी बोर्ड की परीक्षा अब तक 4,64,606 छात्र-छात्राएं छोड़ चुके हैं। बुधवार को दूसरी पाली में इंटर संस्कृत विषय की परीक्षा थी। इसके लिए 142076 परीक्षार्थी पंजीकृत थे। बुधवार को 505 छात्रों के परीक्षा छोड़ने की सूचना बोर्ड मुख्यालय को मिली है।