ALL News राजनीति Education Public
जागरुकता उत्पन्न करने के लिए प्रभात फेरी एवं रैली का आयोजन
January 21, 2020 • Dr. Samrat

भारत सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, नई दिल्ली से प्राप्त निर्देशो के अनुपालन में जनपद मुजफ्फरनगर में दिनांक 20 जनवरी, 2020 से दिनांक 26 जनवरी, 2020 तक बेटी बचाओ बेटी पढाओ सप्ताह मनाया जा रहा है, जिसका औपचारिक शुभारम्भ जिलाधिकारी महोदया श्रीमती सेल्वा कुमारी जे. द्वारा दिनांक 20.01.2020 को कलेक्ट्रेट सभागार, मुजफ्फरनगर से किया गया था। बेटी बचाओ बेटी पढाओ सप्ताह के दूसरे दिन (मंगलवार) को जनपद के समस्त नगर निकायो एवं ग्राम पंचायतो में विद्यालयो के द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढाओ, बालिका सुरक्षा, लिंग समानता, कन्या भ्रूण हत्या एक अभिशाप एवं बालिका शिक्षा इत्यादि के प्रति जागरुकता उत्पन्न करने के लिए प्रभात फेरी एवं रैली का आयोजन किया गया। विभिन्न विद्यालयो के छात्र-छात्राओ द्वारा जागरुकता उत्पन्न करने के लिए प्रभात फेरी एवं रैलिया निकाली गयी तथा क्षेत्र में बेटी बचाओ बेटी पढाओ के संदेश का प्रचार-प्रसार किया गया। टीम द्वारा ग्राम एवं मोहल्लो में जाकर गोष्ठिया की गयी तथा गोष्ठी में प्रतिभाग करने वाले व्यक्तियों को बालिका सुरक्षा, लिंग समानता, कन्या भ्रूण हत्या एक अभिशाप, बालिका शिक्षा, महिला एवं बाल कानूनो के संबंध में जागरुक किया गया।
   जनपद की आंगनबाडी कार्यकत्रियों एवं आशा के द्वारा अपने-अपने क्षेत्र में संयुक्त रूप से डोर-टू-डोर जाकर बेटी बचाओ बेटी पढाओ, बालिका सुरक्षा, लिंग समानता, कन्या भ्रूण हत्या एक अभिशाप, बालिका शिक्षा, महिला एवं बाल कानूनो के संबंध में जागरुकता उत्पन्न की गयी तथा घर के बाहर बेटी बचाओ बेटी पढाओ का स्टीकर लगाया गया, पेम्फलेट बांटे गये। यह अभियान नियमित रूप से जनपद में चलाया जाता रहेगा। भारत सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, नई दिल्ली द्वारा संचालित बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना जनपद में महिला कल्याण विभाग, उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से कार्यान्वित की जा रही है, जिसका जिला स्तरीय अधिकारी जिला प्रोबेशन अधिकारी है।
   बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना 22 जनवरी, 2015 को माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा हरियाणा के पानीपत से शुरू की गयी थी। बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना वर्तमान मंें भारत के 405 जिलो में संचालित है। योजना का मुख्य उद्देशय महिला-पुरुष लिंगानुपात में असमानता को दूर करना है। वर्ष 2015 में योजना के प्रारम्भ होने के बाद से जन्म पर लिंगानुपात की दर में नियमित रूप से वृद्धि हो रही है। जनपद मुजफ्फरनगर में वर्ष 2014-15 में जन्म पर लिंगानुपात की दर (CSR) 889 थी जो वर्ष 2018-19 में बढकर 934 हो गयी है। योजना के अन्तर्गत जनपद मुजफ्फरनगर में विभिन्न प्रकार के जनजागरुकता कार्यक्रम नियमित रूप से कराये जा रहे है, जिनका सकारात्मक परिणाम भी दिखाई दे रहा है।
   बेटी बचाओ बेटी पढाओ सप्ताह के तीसरे दिन दिनंाक 22.01.2020, दिन बुधवार को जनपद के समस्त महाविद्यालयों में बेटियों के महत्व को दर्शाने के लिए गोष्ठी/कार्यशाला का आयोजन किया जायेगा। बालिकाओ को इस विषय पर बोलने के लिए प्रेरित करने हेतु वाद-विवाद प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जायेगा। प्रत्येक महाविद्यालय से प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाली प्रथम तीन बालिकाओं को अगले कार्यक्रम में प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया जायेगा। जनपद के प्रत्येक सरकारी एवं गैर सरकारी विद्यालय में बेटी बचाओ बेटी पढाओ, बालिका सुरक्षा, लिंग समानता, कन्या भ्रूण हत्या एक अभिशाप एवं बालिका शिक्षा इत्यादि के प्रति जागरुकता उत्पन्न करने के लिए निबंध, चित्रकारी, पेंटिंग एवं दीवार पेंटिंग इत्यादि की प्रतियोगिता आयोजित की जायेगी। प्रत्येक विद्यालय से प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाली प्रथम तीन बालिकाओं को अगामी कार्यक्रम में प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया जायेगा।