ALL News राजनीति Education Public
हैदराबाद केस : लड़की के पिता ने मरने वालों के परिवार के लिए हमदर्दी दिखाई
December 13, 2019 • Dr. I.A.K. Samrat
हैदराबाद केस : लड़की के पिता ने मरने वालों के परिवार के लिए हमदर्दी दिखाई
27 नवंबर को हैदराबाद में एक वेटनरी डॉक्टर का गैंगरेप हुआ. फिर हत्या हुई और उसके शव को जला दिया गया. इस मामले में जिन चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था, वो भी एनकाउंटर में मारे जा चुके हैं. वहीं इस वक्त विक्टिम और चारों आरोपियों के परिवार वाले बहुत मुश्किल में हैं.

वेटनरी डॉक्टर के पिता का कहना है कि चार लोगों के गलत काम की वजह से पांच परिवार को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. समाचार एजेंसी ANI से हुई बातचीत में उन्होंने कहा,

'जिन चार लोगों ने मेरी बेटी को मारा था, वो भी मारे जा चुके हैं. लेकिन अब हमारी जिंदगी बहुत मुश्किल हो गई है. पांच परिवार मुश्किल में पड़ गए हैं. इस तरह के अपराध होने ही नहीं चाहिए. जो भी मारे गए हैं, उनके मां-बाप, उनका परिवार और पुलिस सबको बहुत कुछ झेलना पड़ रहा है. क्या इस तरह के अपराध करने की कोई जरूरत थी?'

ये बात काफी द्रवित करने वाली है. लड़की के पिता अपनी बेटी की हत्या के आरोपियों के घरवालों के बारे में भी सोच रहे हैं.

इस एनकाउंटर को लेकर सुप्रीम कोर्ट और तेलंगाना हाई कोर्ट, दोनों ही एक्टिव हो चुके हैं. सुप्रीम कोर्ट ने 11 दिसंबर को इस मामले में सुनवाई करते हुए कहा है कि जल्द ही सुप्रीम कोर्ट के किसी पूर्व जज को इस केस की निगरानी करने के लिए नियुक्त किया जाएगा. समाचार एजेंसी ANI के ट्वीट के मुताबिक कोर्ट ने कहा,

'हम जानते हैं कि तेलंगाना हाई कोर्ट पहले से ही इस मामले की सुनवाई कर रहा है. हम सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज को इस मामले की जांच करने के लिए नियुक्त करेंगे. वो दिल्ली में ही रहकर इस पूरी घटना की जांच करेंगे.'

रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोर्ट पहले एनकाउंटर मामले की जांच के लिए रिटायर्ड जज पीवी रेड्डी को नियुक्त करना चाहता था, लेकिन वो उपलब्ध नहीं थे. इसलिए अब किसी दूसरे जज को नियुक्त किया जाएगा. सुप्रीम कोर्ट में एनकाउंटर केस की जांच को लेकर वकील जीएस मणि और प्रदीप कुमार ने याचिका दायर की थी. इस मामले की अगली सुनवाई 12 दिसंबर को होगी.

आपको बता दें कि तेलंगाना हाई कोर्ट भी इस मामले की सुनवाई कर रहा है. कोर्ट ने स्वत संज्ञान लेते हुए आदेश दिया था कि चारों आरोपियों के शव को 9 दिसंबर तक के लिए सुरक्षित रखा जाए. 9 दिसंबर के दिन कोर्ट ने इन शवों को सुरक्षित रखने की तारीख 13 दिसंबर कर दी. तेलंगाना हाई कोर्ट अगली सुनवाई 12 दिसंबर को करेगा.

क्या है पूरा मामला?

27 नवंबर की रात हैदराबाद में 26 साल की एक वेटनरी डॉक्टर का गैंगरेप हुआ था. फिर उसकी हत्या करके उसके शव को जला दिया गया था. डॉक्टर का शव 28 नवंबर की सुबह नेशनल हाईवे-44 के एक ब्रिज के नीचे मिला था. पुलिस ने इस मामले में सीसीटीवी फुटेज को खंगालते हुए 29 नवंबर के दिन चार आरोपियों को गिरफ्तार किया था. 6 दिसंबर की सुबह करीब 6 बजे पुलिस चारों आरोपियों को उसी ब्रिज के नीचे लेकर गई थी. डॉक्टर का फोन खोजने के लिए. आरोपियों ने पुलिस पर हमला करके क्राइम सीन से भागने की कोशिश की थी. उन्हें रोकने की कोशिश में पुलिस ने फायरिंग की और चारों की मौत हो गई थी